ayurveda
Biovatica.Com

AyurvedaWelcome to Biovatica.Com Ayurveda

Ayurveda All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies Ayurveda

Search for Ailment, Condition, Disease or Natural Ayurvedic Indian Home Remedies :-


Ayurveda on Men's Health
Ayurveda Men's Health
Ayurveda on Youth & Teen
Ayurveda on Women's Health
Ayurveda on Women's Health
About US Contact Us Donate
Men's Health Women's Health Sexual Health
Anti-Aging Digestive Health Skin Care

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

Ayurveda

Biovatica

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

Acne

Anxiety

Adenoids

Addiction

Alopecia

Anemia

Allergic Rhinitis

Blood Pressure

Breast Lump

Bronchial Asthma

Bronchitis

Cataract

conjunctivitis

colitis

constipation

cough

Common cold (coryza)

Deafness

Diarrhoea

Diabetes mellitus

Depression

dysmenorrhoea

eczema

Enuresis (bed wetting)

epilepsy

epistaxis

earache

eructation and flatulence (gas trouble)

fatigue

fever

gallstones

gout

cramps

hemorrhoids

headache

heartburn

heatstroke

hernia

hysteria

hysteria versus epilepsy

impotence

insomnia

jaundice

leucorrhoea

lumbago

schizophrenia

Stress

Urinary incontinence

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

Biovatica

Men's Health

Herpes

Reproductive Health

Premature Ejaculation (PE)

Erectile Dysfunction(ED)

Low Sperm Count

Nocturnal emission (Wet Dreams)

Masturbation

Low sex drive Libido) in male

Hair Loss (Male Baldness)

Women's Health

- Pregnancy

- Periods

- Breast Care

- Low Sex Drive (Libido) in Women

- Hair Loss (Female Baldness)

Sexual Health

Anti-Aging

Skin Care

Digestive Health

Heart Disease and Cholesterol

Arthritis

Acupressure

Ayurveda Resources

Archives

Ayurvedic oils

Ayurveda and Mental Health

ayurveda and summer season

ayurveda and winter season

ayurveda and rainy season

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

privacy policy

Contact Us

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

Ayurvedic Herbs

1) Kali Mirch (Black Pepper)

2) Brahmi

3) Amla (Aanvla)

4) Sarpagandha

5) Kesar

6) Isabgol

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

Ayurveda Recipes

Ayurveda Yoga

AyurvedaAyurvedaAyurvedaAyurveda

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


Ayurveda and some homeopathic medicines for Women's Health




ayurveda women's health ayurveda women's health

Husk of Ashoka tree is the great friend of women's health. It relives the women from their sorrows ( shoka ). By taking the husk of Ashoka tree as a main ingredient, a very popular ayurvedic remedy called “Ashokarishta” is prepared by many noted Ayurveda houses of the country. Almost all famous and big Ayurveda remedy manufacturers prepare Ashokarishta and it is available in all ayurvedic medicine shops of india.

Ashokarishta
Ashokarishta Ashokarishta Ashokarishta

for complete details, uses and dosage of Ashokarishta please visit our Ashokarishta page

There are some common diseases found in both men and women. But there are certain diseases which are found separately in men and women. Since diseases related to uterus or menstrual cycle are found only in women, these diseases are called women's diseases. Here we are listing some tried and tested Ayurveda home remedies for certain diseases related to women's health.

Menorrhagia/Metrorrhagia/Menstrual Bleeding ( रक्त-प्रदर , Rakta Pradara )
menorrhagia ayurveda


1) Ashoka tree ( Saraca asoca) – this Ayurveda medicinal plant is true to its name as it takes away the sorrow of women with its herbal remedial properties. Take the chhal (husk) of Ashoka tree and flour/grind it. Take it in the quantity of 20 gram and boil in half litres of water. Boil it until a quarter litre solution is remaining. Then put a quarter litre milk in it. Now again boil until only a quarter litre solution is remained. Now put appropriate amount of misri in it and drink regularly in the morning before the meal for few days. Using it for few days treats even severe menstrual bleeding.

2) Eating one ripe banana every morning and evening after meal, eating cooked vegetable of raw banana, eating kheer prepared with milk and banana and eating one banana with 1 spoonful of ghee – all these are very good and beneficial for the natural Ayurveda treatment of leucorrhoea or Rakta Pradara. Eating banana everyday by any means is highly recommended by Ayurveda for the home treatment of leucorrhoea.

3) Women suffering from Leucorrhoea should drink buttermilk mixed with cumin and salt.

4) Prepare rice dhowan . Mix it in the roots of neat doob and flour it properly . it effectively treats the Pradara disease.

Rice Dhowan – Take 50 gram rice. Flour/grind it thick and put it in a glass of water. After 2-3 hours filter it. This water is called ‘Rice Dhowan' or ‘ Chaaval ka dhowan ' . an Ayurveda remedy ‘ pushyanug powder' is available in Ayurveda medicine shops. Eating this powder with honey together with drinking a cup of Rice Dhowan eliminates Menorrhagia or Rakta Pradara disease. This home remedy is tested. 1 or 2 spoonfuls of honey can be put in a cup of water.

Vaginal Itching, Burning, and Irritation

For the ayurvedic treatment of various vaginal diseases like Protuberance, irritation, burning, redness, wound, itching, pain during intercourse, bad odour,STD and vaginal infection, an ayurvedic oil named ‘Dhaatkyadi oil' is available. Applying this oil on affected area with the help of cotton provides relief in all these problems. This is a tested Ayurveda remedy. It is manufactured and made available in the market by ‘Sri Krishnagopal Ayurved Bhavan' of Ajmer.

Menstrual Disorder, Irregular Menstruation, Menstrual Irregularity, Irregular periods, Irregular Menstrual Cycle
Ayurveda Menstrual Cycle

•  Amenorrhea

•  Polymenorrhea

•  Oligomenorrhea

•  Dysmenorrhea

•  Menorrhagia

•  Metrorrhagia

•  Metropathia hemorrhagica

•  Abnormal Menopause

•  Leucorrhoea

•  Postmenopausal bleeding

Earlier, in a separate article, we have discussed about this issue. That article was titled ‘adolescence/teenage and irregular monthly cycle/periods' . Now in this article we will discuss two health conditions in detail which concerns middle aged or aging women's health.

These health conditions are – 1) Menopause 2) prolapse of uterus .

Womens' monthly cycle usually stops between the age of 45 and 50. It is called menopause. And when Uterus (womb), slides below its natural location (due to any reason), is called prolapse of uterus.

Menopause

At the end of middle age and the start of old age, women's monthly cycles gradually stop. It indicates that woman can no longer become pregnant. If this procedure completes without any trouble or disturbance, in a natural and normal way, then it will not be called any disease or disorder. Then it will be called a natural process. A natural and normal procedure of Menopause.

But for many women the process of menopause does not come in a natural or smooth manner. They go through several kinds of problems, troubles, uneasiness and disorders. In these cases it will be called a disease. And treatment will be needed for those signs and symptoms which may come up during the process.

In a natural or normal process of Menopause, either monthly cycle stops suddenly or it gradually stops in a timely manner. There is one situation when menstrual bleeding or flow becomes irregular, the gap between two cycles increases and then there is another condition when menstrual flow is quick and amount of bleeding is more, and it suddenly stops.

In this interval women experience certain types of mental and physical symptoms. Some psychological disturbances and behavioural changing symptoms may occur which include – irritability, fussiness, confusedness, despair, instability, impatience, feeling of over sexuality or lack of sexual feeling and nervousness. Physical disturbances include hot flashes, sudden perspiration, headache, and feeling of numbness in hands, legs or entire body and feeling of tiredness. Normally these symptoms come and go away on their own. Once the procedure of menopause is completed, all this symptoms die down and don't show up again. Thus, it is not necessary to worry about these symptoms as in most cases they do not require treatment. This condition gets better on its own. Knowledgeable and educated women take these conditions with discretion but illiterate or innocent women gets worried and scared with these symptoms and fall prey to Neurasthenia, weakness, depression, decay and downheartedness. Their digestion power also decreases resulting in even more complaints.
Ayurveda Women's Health

.When the age of reproductive organs are over, uterus or womb shrink and become smaller. If good diet plan and healthy regimen is followed and an active lifestyle is maintained, the body remains healthy. Otherwise chances of weight gain and obesity increase and there occur the possibilities of symptoms of quick aging or old age. Many women fear that they will suddenly become old after menopause. They think their libido and ability to enjoy sexual pleasure will be destroyed and they will be deprived of their womanhood. This does not happen suddenly and also does not happen ONLY due to menopause. Slowly as aging progresses, it is bound to happen. As long as libido and ability to enjoy sexual pleasure is concerned, it entirely depends on the temperament and psyche of the women.

Now we will list some homeopathic medicines which are popular and effective in the treatment of these problems related to women's health.

1) pulsatilla
Pulsatilla

Pulsatilla is an effective and multipurpose medicine which works on the treatment of many symptoms and health conditions concerning women's health.

In fact, Pulsatilla is considered a friend-medicine of women as it is beneficial in several Women's health problems like delayed monthly period, reduced menstrual flow, interrupted menstrual flow, occurrence of other health problems with start of menstrual period and problems like nosebleed (epistaxis) before or after the period. Pulsatilla is regarded as one of the best homeopathic medicine for all problems/disorders related to menstrual cycle/monthly period.

For such women whose bodies are little heavy or obese and who suffers from lack of thirst and appetite, sympathy seeker, extremely emotional, lazy, too shy, likes open air, feel uncomfortable in closed rooms, indecisive and unable to take quick decisions, gets annoyed with heat and likes cold or chilly things, - when such women go through irregular monthly period or delayed monthly period, they should take 5-6 pills of Pulsatilla 30 three times a day. On first day one dose of 5-6 ‘Sulphur 200' should be taken and no other medicine should be taken on this day. Use of Pulsatilla 30 should be started from the next day.

2) Sepia
Sepia

If a woman is thin or skinny, stoic in nature, has freckles on nose and cheeks, has a feeling that uterus (womb) will be sliding down, has cub or constipation, has feeling of flushes during periods, and is short-tempered, stubborn and irritable (symptoms opposite to those in Pulsatilla) – when such woman suffer from delayed period or irregular period, then a single dose of 5-6 meicines of sulphur 200 should be taken and 3 doses of Sepia 30 should be taken from the next day onwards.

3) Cyclamen
Cyclamen

If a woman shows symptoms for Pulsatilla and most of the times feel thirsty, does not like open air, feels relieved after sobbing, likes loneliness, feels guilty, suffers from dizziness during menstrual cycle, always remains sad, disappointed and unhappy and suffers from painful periods – such woman, in order to get rid of irregular menstrual cycle, should take Cyclamen-30 three times a day. ayurveda women's health

4) Graphites
Graphites

If an obese woman is also suffering from skin disease and the only difference from the symptoms listed under Pulsatilla is that this woman starts crying in small things or issues but there is no skin disease. But for the use of Graphites medicine skin, disease is necessary . If such a woman suffers from delayed period, lower menstrual flow or irregular periods, then use of Graphites -30 is recommended three times a day.

While thinking according to symptoms it is important to see how many symptoms are matching with which medicine. Medicine should be selected based on the symptoms. All these medicines are proven and tested.

Many women suffer from menorrhagia and leucorrhoea. Treatment of these diseases can be done based on symptoms. There can be several causes of menorrhagia. Right medicines/treatment for menorrhagia can be determined after the correct and appropriate analysis of the symptoms. To immediately stop excessive bleeding these medicines are used – Hamamelis Virg. , thlaspi bursa pastoris, Nux Vomica (Nux-v), Chamomilla and Ipecac. The use of these medicines depends on the symptoms which are detailed below:-

5) Hamamelis Virg
Hamamelis Virg

If there is too much menstrual flow, flow is slow but long in continuance, flow does not stop, color of blood is black or blue and/or there is blood clot ( clotty period ) – 5-6 pills of Hamamelis Virg's 6 power/potency should be taken with 2 spoonful of water 3-4 times a day in the time interval of 15-15 minutes provides relief in menstrual bleeding and controls the bleeding. Once desired result is achieved, medicine should be stopped.

6) Thlaspi bursa-pastoris

When menstrual bleeding is initially slow, but slowly increases and keep increasing to such a level when that it makes a patient feel sick and weak. And if there is extended menstrual flow for 8 to 15 days, then 10-10 drops of Thlaspi bursa-pastoris in half cup of water should be taken 3 times a day.

7) Nux Vomica (Nux-v)
Nux Vomica (Nux-v)

If a woman's body is thin or skinny, is of cold nature, cannot tolerate cold, Is always busy in work, is not lazy and menstrual flow is in excess and continues for a longer period, or menstrual cycle starts before the expected time,taking 5-6 pills of Nux vomica – 30 (Nux –v) is beneficial. Stop taking it once the desired results are achieved.

8) Chamomilla- 30

When menstrual flow is dark, clotty and in excess quantity, along with woman's nature is irritable, angry or frustrated, she scolds or hits the kids, such patient should take 5-6 pills of Chamomilla- 30 3 times a day.

9) Ipecac 30

Its primary symptom is too red or bright menstrual bleeding and intermittent menstrual bleeding. In these symptoms, taking 5-6 pills of ipecac 30 three times a day provides relief.

---------------------------------------------------------------

Now lets discuss some ayurvedic home remedies for leucorrhea, menorrhagia and dysmenorrhea

biovatica .com के अनुभव में आया है की श्वेतप्रदर (leucorrhea ), रक्तप्रदर (menorrhagia ) और कष्टार्तव ( dysmenorrhea ) से ग्रस्त युवतियों और स्त्रियों की संख्या सर्वाधिक है लगभग ९० प्रतिशत. हम यहाँ इन बिमारियों की सफल और सरल घरेलु चिकित्सा प्रस्तुत कर रहे हैं.
श्वेतप्रदर - biovatica .com की रेगुलर visitors तो श्वेतप्रदर, रक्तप्रदर और कष्टार्तव आदि के लक्षण तो वेबसाइट के अन्य पुराने आर्टिकल्स में पढ़ ही चुकी होंगी लिहाज़ा हम यहाँ सिर्फ चिकित्सा ही प्रस्तुत कर रहे हैं. सिका हुआ सफ़ेद जीरा पिसा हुआ ४ ग्राम और पिसी मिश्री ४ ग्राम - दोनों मिला कर ताज़े पानी के साथ सुबह, दोपहर और शाम को , लाभ न होने तक सेवन करें. यदि स्त्राव का रंग पीला और गर्म गर्म निकले तो मुलहठी का चूर्ण तथा पिसी मिश्री ६-६ ग्राम इसी विधि से लाभ न होने तक दिन में तीन बार पानी के साथ सेवन करें. अगर उपलब्ध हो सके तो बबूल की बारीक़ बिना बीज वाली फलियां, छाया में सुख कर कूट-पीस लें. बबूल की पत्तियां भी छाया में सुखाकर कूट पीस लें. दोनों को समान मात्रा में ले कर मिला लें. यह चूर्ण एक चम्मच, शहद में मिला कर, सुबह शाम चाट लिया करें.

सोते समय चाय वाले चम्मच से त्रिफला चूर्ण २ चम्मच गर्म पानी के साथ फांक लिया करें. ४० दिन तक या फिर आवश्कतानुसार लंबे समय तक इन योगों का सेवन करने से बीमारी जड़ से समाप्त हो जाएगी. एक गिलास पके हुए ठन्डे दूध में एक केला मसल कर डाल दें और एक चम्मच शुद्ध घी व् ३ चम्मच शहद डाल कर सुबह व् सोते समय सेवन करने से शरीर का दुबलापन दूर होता है, शरीर सुडौल व् मांसल होता है तथा शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है. त्वचा का रंग उज्जवल होता है.

शरीर की कमज़ोरी, चक्कर आना, दिमागी थकावट और प्रदर के कारण हुई निर्बलता दूर करने के लिए ये उपाय करें - पंसारी के यहाँ से कतीरे का गोंद और मिश्री ले आएं. दोनों को अलग अलग पीस कर समान मात्रा में ले कर मिला लें. इस मिश्रण को २-२ चम्मच सुबह शाम दूध के साथ एक माह तक सेवन करें. लगातार सेवन करने से प्रदर रोग भी ठीक हो जाता है.

रक्तप्रदर और कष्टार्तव - मासिक ऋतू स्त्राव के पांच दिनों में मजीठ (मंजिष्ठा ) का महीन पाउडर, आधी छोटी चम्मच में लेकर तीन बार पानी के साथ फांक लें. ऐसा प्रतिमास ४-५ दिन तक ऋतुस्त्राव होने तक प्रयोग करें. ३-४ महीनो तक ऋतुस्त्राव के दिनों में इस प्रयोग को करने से रक्तप्रदर और कष्टार्तव में आराम हो जाएगा.

आहार - प्रदर रोग से ग्रस्त महिला को आहार में केला, कच्चा नारियल, चावल, चावल की खीर, केले की खीर, कच्चे नारियल की खीर, शुद्ध घी, गौदुग्ध, चौलाई,परवल, दिया, तोरई, सिंघाड़ा,ककड़ी, मुनक्का, किशमिश, सूखे मेवे, मिश्री, ठंडा जल आदि का सेवन करना चाहिए. फ्रिज का पानी न पियें. तेज़ मिर्च मसाले, खटाई, ताली भुनी चीजें , उष्ण प्रकृति के पदार्थ, मांसाहार, मादक दृव्य रात्रि जागरण, चिंता, तनाव, शोक, क्रोध, और अति परिश्रम से कतई दूर रहें.

दुर्बल कृष शरीर - जिन नवयुवतियों या वयस्क स्त्रियों का शरीर बहुत दुर्बल और दुबला-पतला हो, चेहरा पिचक हुआ, स्तन और नितम्ब सूखे हुए और पूरा शरीर हड्डियों का ढांचा दिखाई देता हो उन्हें अपने आहार में पोषक तत्वों को विशेष रूप से शामिल करना चाहिए, अपनी पाचनशक्ति पर पूरा ध्यान देना चाहिए और सुबह शाम दोनों वक़्त शौच के लिए अवश्य जाना चाहिए.
पोषक पदार्थों में ऊपर आहार के अन्तर्गत बताये गए पदार्थों के अलावा ताज़ा दही, छाछ, दूध से बने पदार्थ अपनी पाचनशक्ति के अनुकूल मात्रा में सेवन करें. भोजन खूब चबा चबा कर किया करें. भोजन के अंत में १-२ केले जरूर खाएं. मूंगफली, अंजीर, काजू, अखरोट , भीगे देशी चने , मौसमी फल आदि का सेवन करें. रात को सोते समय एक गिलास ठन्डे दूध में २-३ चम्मच शहद घोल कर पिया करें. सदैव प्रसन्न और हंसती मुस्कुराती रहें तथा चिंता, ईर्ष्या और क्रोध से बचती रहें. दो माह में ' काया पलट' हो जाएगी.

biovatica .com की रेगुलर विज़िटर्स के इमेल्स में ये सुझाव पढने को मिलता रहा है की वेबसाइट में जैसे आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक पद्धति के अनुसार नारी-स्वास्थ्य संबंधी जानकारी प्रस्तुत की जाती है वैसे ही आधुनिक अर्थात एलोपथिक चिकित्सा पर आधारित जानकारी भी प्रस्तुत करें तो हम वेबसाइट विज़िटर्स के ज्ञान की और अधिक वृद्धि होगी. इस सुझाव पर अमल करते हुए हम नारी-स्वास्थ्य से सम्बंधित प्रमुख प्रश्नों के उत्तर यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं. इस प्रश्नोत्तरी के लिए हमने एक बहुत ही प्रसिद्ध और सफल महिला डॉक्टर से संपर्क किया और वो सहर्ष इस इंटरव्यू के लिए तैयार हो गयीं.
biovatica .com में हम लंबे समय से इस मुद्दे पर विचार कर रहे थे की वेबसाइट विज़िटर्स के उस सुझाव पर अमल किया जाए जो उन्होंने एलोपथिक चिकित्सा पद्धति पर आधारित नारी स्वास्थ्य से सम्बंधित विवरण प्रस्तुत करने के लिए अपने इमेल्स में निवेदन किया है. यूँ तो हम आयुर्वेद के प्रबल समर्थक है लेकिन इसका यह तात्पर्य नहीं की अन्य चिकित्सा पद्धतियों के विरोधी हैं. हमारी राय में वही चिकित्सा पद्धति अच्छी है जो रोगी को रोग से मुक्त कर सके और दवा वही अच्छी है जो निरापद ढंग से, बिना किसी नुक्सान के, रोग को दूर कर दे, साथ ही कोई नयी बीमारी पैदा न करे. चिकित्सा विज्ञान ने इस सदी में विलक्षण उन्नति की है और चमत्कार प्रतीत होने वाली उपलब्धियां की हैं. विज्ञान की इस उन्नति का लाभ एलोपथिक पद्धति को मिला है और मिल रहा है. सीट स्कैन, अल्ट्रासाउंड , सोनोग्राफी आदि माध्यमों से शरीर की आतंरिक स्थिति का जैसा प्रत्यक्ष साक्षात्कार एवं ज्ञान उपलब्ध हो जाता है वैसा अन्य किसी चिकित्सा पद्धति के माध्यम से नहीं मिलता.
आपरेशन यानी शल्य-क्रिया किसी ज़माने में आयुर्वेद-विज्ञान का अंग थी बल्कि शल्य-चिकित्सा-विज्ञान का आदि गुरु आयुर्वेद ही है इसमें शक नहीं, पर ये को किसी गुज़रे ज़माने की बात हुई, मौजूद वक़्त में तो पश्चिमी विज्ञान के अनुसार ही वैज्ञानिक उपकरणों से शल्य-क्रिया की जा रही है. ये सब देखकर ही हम इस निष्कर्ष पर पहुंचे की नारी-स्वास्थ्य एवं नारी रोगों के विषय में एलोपथिक चिकित्सा विज्ञान क्या कहता है, इसकी जानकारी, मोठे रूप में और कुछ ख़ास-ख़ास मुद्दों के विषय में, प्रस्तुत करना biovatica .com के यूज़र्स के लिए उचित मार्गदर्शन एवं उपयोगी जानकारी देने वाला सिद्ध होगा. इन्ही बातों को ध्यान में रख कर biovatica .com ने मुम्बई की एक प्रसिद्ध लेडी डॉक्टर से संपर्क किया जो नारी-रोगों में विशेषज्ञ हैं. हमने उनके सामने वो हो प्रश्न रखे जो हमको नारी रोगों के बारे में हमारे वेबसाइट विज़िटर्स ने भेजे हैं. नारी रोगों से सम्बंधित आपके प्रश्नों और उनके विशेषज्ञ द्वारा उत्तरों को हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं.

Question - किशोरावस्था की समाप्ति और युवावस्था का आरम्भ होने की आयु हो जाने पर भी मासिक धर्म होना शुरू न होने के क्या क्या कारण हो सकते हैं?

Answer - इस आयु की अवधि को मेनारकी (menarche ) पीरियड कहते हैं जिसका शाब्दिक अर्थ होता है मासिक धर्म का प्रारम्भिक समय. यह भारत देश में तो आमतौर पर १३ से १६ वर्ष की आयु के बीच होता है जबकि अमेरिका जैसे देश में इसकी औसत आयु १२.८ वर्ष मानी जाती है. यदि १८ वर्ष की आयु होने तक भी मासिक धर्म शुरू न हो तो यह चिंता और जांच का विषय हो जाता है. इस स्थिति की उत्पत्ति के कई कारण हो सकते हैं जैसे गर्भाशय की जन्मजात असामान्यता (congenital abnormality of uterus ) , गर्भाशय का बहुत ज्यादा छोटा होना, गर्भाशय या योनि का न होना, योनि (vagina ) में ऐसा अवरोध (septum ) का होना जिससे रक्तस्त्राव होने में रुकावट होती हो आदि. इनके अलावा अंडाशय में कमी,ह्य्पोथेल्मस (hypothalamus ) और पिट्यूटरी (pituitary ) ग्रंथि की बीमारियां, थाइरोइड ग्रंथि के रोग या इसका कमज़ोर होना आदि भी इसके कारण होते हैं.

Question - मासिक धर्म होना शुरू हो जाने के बाद कई स्त्रियों को अनियमित मासिक धर्म होने की शिकायत का होना पाया जाता है. इसके कारण और निवारण के उपाय बताएं?

Answer - आमतौर पर ये स्थिति हार्मोन्स की कमी के कारण होती है. वैसे यह अनियमितता दो प्रकार की होती है. एक प्रकार की अनियमितता इस तरह की होती है की जिसके कारण प्रत्यक्ष नज़र आते हैं जैसे गर्भाशय में कैंसर होना, गर्भाशय में गठानें (polyps or fibroids ) होना, गर्भाशय के मुंह (cervix ) पर छले होना, अंडाशय एवं डिम्बनलियों (fallopion tubes ) में सूजन होना, कभी कभी योनि (vagina ) में कैंसर की शुरुआत होना आदि. इन कारणों की जानकारी जांच करने पर मिल जाती है. दूसरे प्रकार की अनियमितता ऐसी होती है जिसका कोई प्रत्यक्ष कारण दिखाई नहीं देता. ऐसी स्थिति में हार्मोन्स की गड़बड़ी यानि असंतुलन (imbalance of hormones ) होना इसका कारण होता है. अब रहा सवाल चिकित्सा का तो जैसा कारण होता है वैसी चिकित्सा की जाती है. जैसे गठानें हों तो उन्हें निकल देना, छले हों तो सेक (cryosurgery ) करना, सूजन हो तो सूजन मिटने वाली दवाइयां देना, कैंसर हो तो आपरेशन द्वारा कैंसर प्रभावित भाग को निकल देना. यदि हार्मोनल गड़बड़ी हो तो इसे दूर करने के लिए ३ से ६ माह तक हार्मोनल थेरेपी देना आदि.


Question - श्वेतप्रदर (leucorrhoea ) होने के विशिष्ट (specific ) एवं सामान्य (non -specific ) कारण क्या होते हैं?
Answer - योनि मार्ग से चिकना, लिसलिसा पानी अधिक मात्रा में बहे तो इसे leucorrhoea होना कहते हैं. इसके विशिष्ट (specific ) कारन मुख्यतः ३ होते हैं. (१) गनोरिया (गोनोरिया ) - यह एक प्रकार का रोग होता है जो gonococcus नामक एक कीटाणु के संक्रमण के कारण होता है. यह संक्रमण यौन सम्बन्ध करने से भी हो जाता है. इस रोग के प्रभाव से ल्यूकोरिया हो जाता है. इसे gonococcul कारण कहते हैं. दूसरा कारण होता है trichomonal और तीसरा कारण है moniliasis . ये दोनों कारण इन्फेक्शन होने (छूत लगने ) से उत्पन्न होते हैं. यह इन्फेक्शन यौनसंबंध करने से, साफ़-सफाई न रखने से , मासिक धर्म के दिनों में प्रयोग किये जाने वाले टॉवल, पैड, या कपडे की गंदगी के कारण होता है. गर्भवती स्त्रियों को , मधुमेह से ग्रस्त स्त्रियों को या उन स्त्रियों को जिन्होंने एंटी-बायोटिक दवाइयां ज़्यादा खाई हैं, मोनिलियासिस इन्फेक्शन के कारण यह रोग होता है.

सामान्य (non -specific ) कारणों में पानी में पाए जाने वाले नाना प्रकार के कीटाणु इसका कारण होते हैं. कुछ दवाइयां भी इसका कारण हो जाती है जो योनि के अंदर राखी जाती हैं. मासिक धर्म के समय एक प्रकार का शोषक कपडा, जिसे tampon कहते हैं, स्त्रियां योनि मार्ग में अंदर रखा करती हैं, यह भी कारण बन जाता है. योनि में गर्भ निरोधक वस्तु रखने से भी संक्रमण हो जाता है.जिससे श्वेतप्रदर हो जाता है. इसकी चिकित्सा बताना कठिन है क्योंकि दवाओं का चुनाव महिला की पूरी जांच पर निर्भर करता है और जांच के अनुसार ही दवाएं दी जाती हैं. इसके लिए योनि मार्ग से बहने वाले पानी को लेबोरेटरी में जांच के लिए भेज जाता है और वहां से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर चिकित्सा का निर्णय किया जाता है.

Question - मासिक धर्म के दिनों में अधिक मात्रा में और अधिक दिनों तक रक्तस्त्राव होने के क्या कारण होते हैं? इसकी चिकित्सा बताएं.
Answer - अधिक रक्तस्त्राव, जिसे menorrhagia कहते हैं, होने के कारणों को मुख्यतः चार भागों में बांटा जा सकता है . - (१) - शारीरिक कारण - सामान्य शारीरिक कारण जैसे खून की कमी (aplastic anemia ) , खून की खराबी (thrombocytopenia , purpura ), तनाव, टेंशन, चिंताएं, या अत्यधिक श्रम (over exertion ) आदि. (२) गर्भाशय के विकार - गर्भाशय (यूटेरस) में गठान (fibroid ) होना, सूजन होना, गर्भपात या प्रसव के बाद की विकृतियां , अंडाशय में गठान या गर्भाशय में कैंसर होना, परिवार नियोजन के लिए लगाई हुई कॉपर टी आदि. (३)अन्तःस्त्रावी ग्रंथियों के विकार - endocrine gland जैसे thyroid या pituitary ग्रंथियों में विकार होना आदि. (४) - आघात लगना - किसी भी कारण से गर्भाशय को ऐसी चोट पहुंचे की वहां ज़ख्म हो जाए और ठीक न हो तो रक्त स्त्राव होता ही रहे. हार्मोन्स के असंतुलन के कारण भी रक्तस्त्राव की मात्रा व् अवधि बढ़ जाती है.
अधिक रक्तस्त्राव की चिकित्सा भी इसके कारणों के अनुसार तथा महिला की शारीरिक स्थिति की जांच करके निर्धारित की जाती है. एक जैसी सामान्य चिकित्सा सभी के लिए उपयोगी नहीं होती अतः उसका विवरण देना भी उपयोगी नहीं हो सकता.

Question - गर्भ की स्थापना न हो पाने में पत्नी के दोष क्या होते हैं?
Answer - यदि पति पूर्णतः स्वस्थ, निरोग तथा गर्भ स्थापित करने में सक्षम हो फिर भी गर्भ स्थापित न होता हो तो पत्नी की जांच करना ज़रूरी हो जाता है. पत्नी के अंडाशय में डिम्ब न बनना, कमज़ोर डिम्ब बनना और थोड़ी सी अवधि तक ही डिम्ब बनना बाद में न बनना, नालियों (fallopian tube ) में सूजन होना या उनका चिपका हुआ होना जिससे डिम्बाशय (अंडाशय) से निकलने वाला डिम्ब गर्भाशय तक पहुँचता ही नहीं, जिसका गर्भाशय में पंहुंचना और शुक्राणु से संयोग करना गर्भस्थापना के लिए अनिवार्य होता है. यह बढ़ कई कारणों से पैदा हो सकती है जैसे किसी आपरेशन के वक़्त अंदर कोई इन्फेक्शन हो जाए , अपेंडिक्स का आपरेशन करते समय इन नालियों (fallopian tube ) को हानि पहुँच जाये, प्रसव या गर्भपात के कारण इन नालियों में अवरोध पैदा हो जाये जिससे अंडाशय से निकलने वाला डिम्ब गर्भाशय तक न पहुंचे.
दोनों नालियां पूरी तरह या आंशिक रूप से बंद (block ) हो जाएँ जिनका कारण गनोरिया या क्षय रोग या गर्भपात अथवा प्रसव के बाद किसी कारण से सूजन आ जाना होता है. कभी कभी ऐसा भी होता है की जन्म से ही फेलोपियन ट्यूब की बनावट दोषपूर्ण होती है या गर्भाशय की बनावट दोषपूर्ण होती है जैसे गर्भाशय छोटा होना, टेढ़ा होना या गर्भाशय ही न होना, उसमे गठानें होना, गर्भाशय के मुंह पर छले या सूजन होना आदि. योनि मार्ग में इन्फेक्शन और इंफ्लाममशन यानि छूत तथा शोथ होना, जलन होना, भरी मात्रा में अम्लता बानी रहना और छोटी छोटी गठानें होना आदि. इन कारणों के अलावा अन्तःस्त्रावी ग्रंथियों जैसे थाइरोइड ग्रंथि, पिट्यूटरी ग्रंथि का ठीक से काम न करना आदि भी गर्भस्थापना में बढ़ा डालने वाले कारण होते हैं. इन स्थितियों में पति कितना ही स्वस्थ और गर्भाधान करने में सक्षम हो फिर भी ऐसी स्थिति वाली पत्नी गर्भवती नहीं हो पति. इसके लिए पति नहीं बल्कि पत्नी ही इस स्थिति के लिए ज़िम्मेदार और दोषी मणि जाएगी

Question - गर्भवती स्त्री को अपने खान-पान में क्या-क्या पदार्थ सेवन करना चाहिए ?
Answer - गर्भवती महिला को सिर्फ अपने ही शरीर का नहीं बल्कि गर्भ के बच्चे का भी पोषण करना होता है इसलिए उसे पर्याप्त मात्रा में पौष्टिक आहार लेना ही चाहिए. उसके आहार में प्रोटीन्स, विटामिन्स, लौह, कैल्शियम, फास्फोरस , मिनरल्स आदि सभी तत्वों की पूर्ती करने वाले पदार्थ होना चाहिए. उसे भूखा नहीं रहना चाहिए यानि वक़्त से भोजन कर लेना चाहिए . गर्भवती स्त्रियों के लिए आवश्यक सभी विटामिन प्रोटीन आदि तत्वों के विषय में हमने biovatica .com के अन्य आर्टिकल्स में समय समय पर विवरण दिए हैं. तो यहाँ संक्षेप में इतनी जानकारी ज़रूर दे देते हैं की गर्भवती महिला यदि दैनिक आहार में दाल, हरी सब्ज़ी, पनीर, दूध, सूखे मेवे, कच्चा सलाद और मौसमी फलों का सेवन करती रहे तो उसे सभी पोषक तत्व प्राप्त होते रहेंगे.

Question - गर्भवती महिलाओं को किन किन सावधानियों का पालन करना चाहिए?
Answer - यह प्रश् बहुत महत्वपूर्ण है . गर्भवती को गर्भकाल के प्रारम्भिक २-३ माह तक उबकाइयां आना, जी मचलाना और उल्टियां होना आदि की शिकायत हुआ करती है इसलिए शुरू के ३ महीनों में तले हुएपदार्थ, तेज़ मिर्च मसाले, खटाई, चायकॉफी और मादक पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए ताकि इन शिकायतों में वृद्धि न हो और कम से कम दवाइयां खाना पड़ें. अनावश्यक यात्रा करना, तेजी से चढ़नाउतरना या शरीर को झटका लगने वाले काम, शुरू के तीन महीनों में और अंतिम तीन महीनों में, करना उचित नहीं होता क्योंकि इससे गर्भपात होने या कहीं भी प्रसव पीड़ा शुरू हो जाने का भय रहता है.

Question - गर्भपात होने के क्या-क्या कारण होते हैं ?
Answer - गर्भपात होने के कई कारण हो सकते हैं इसलिए गर्भवती स्त्री को बहुत सावधान रहना होता है. इन कारणों में कुछ बीमारियां होती है जिनके प्रभाव से गर्भपात हो सकता है जैसे सिफलिस, डायबिटीज, गुर्दे की सूजन, तेज़ बुखार जैसे मलेरिया, खून की अत्यंत कमी, शरीर में आवश्यक तत्वों की कमी RH factor आदि व्याधियां गर्भपात का कारण बन सकती हैं.गर्भवती को किसी भी शोकपूर्ण घटना से तीव्र मानसिक आघात लगना, सम्भोग के दौरान तीव्र धक्का लगना या किसी एक्सीडेंट से चोट लगना गर्भपात के आकस्मिक कारण हो सकते हैं. इसके अलावा गर्भाशय में गठानें (fibroids ) होना, गर्भाशय का निर्बल होना (hypoplasia ), हार्मोन्स की कमी होना, प्राथमिक तीन महीनों में आपरेशन के लिए बेहोशी की दवा का तीव्र प्रभाव होना आदि भी गर्भपात के कारण होते हैं.

---------------------------------------------------------------

स्त्रियों की स्वास्थ्य रक्षा (Healthcare Of Women )

प्रत्येक नारी की हार्दिक इच्छा रहती है की वह सुन्दर और स्वस्थ बानी रहे , उसकी देहयष्टि (फिगर ) संतुलित और आकर्षक बानी रहे , उसका अंग-प्रत्यंग और गुप्त अंग सुगठित और कसा हुआ बना रहे. पर संतानों को जन्म देने तथा अन्य कारणों से उनके शरीर के अंग -प्रत्यंग की स्थिति ढीली और बेडौल हो जाती है, योनि मार्ग ढीला होकर फ़ैल जाता है, मांसपेशियां ढीली हो जाती हैं. ऐसी सभी स्थितियां ठीक करने वाला, हमारे द्वारा कई महिलाओं को प्रयोग कराया हुआ एक नुस्खा है तिला अवलेह . इस नुस्खे का पूरा विवरण यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है ताकि biovatica .कॉम की लाखों website visitors बहनें इस नुस्खे का सेवन कर लाभ उठा सकें.

तिला अवलेह (Tila Avleh )

तिला अवलेह नुस्खा - काले तिल १५० ग्राम, गोखरू ३०० ग्राम, बबूल का गोंद ५० ग्राम, शुद्ध शहद आधा किलो, शुद्ध देसी घी एक छोटा चम्मच और मिटटी के ढक्कन वाला पात्र (हांडी). तिल, गोखरू और गोंद को कूट पीस कर खूब बारीक़ चूर्ण कर लें और मिटटी के पात्र में अंदर की तरफ भीतरी भाग में घी का लेप कर दें फिर तीनों औषधियों का चूर्ण और शहद पात्र में डाल कर खूब अच्छी तरह से मिला लें. पात्र इतना बड़ा लें की आधा खाली रहे. अब ढक्कन लगा कर कपड़ मिटटी से सब तरफ से बंद कर धूप में सुखा लें फिर जमीन में इतना गहरा गढ्ढा खोदें की पात्र (हांडी ) पूरा समा जाये. अब गढ्ढे की मिटटी से ही गढ्ढे को भर कर , पात्र को अंदर दबा कर ज़मीन समतल कर लें. इस पर बीस कंडे बिछा कर आग लगा दें. दो दिन बाद आहिस्ता से मिटटी हटाकर , राख हटाकर पात्र बाहर निकाल लें. चतुराई से ढक्कन की कपड़ मिटटी हटाकर, साफ़ कर, ढक्कन हटाएं . अंदर तैयार हुआ तिला अवलेह निकालकर कांच के ढक्कनदार जार (बरनी) में भर लें. इसे १-१ चम्मच सुबह नाश्ते के बाद और रात को सोते समय , खा कर, दूध पियें. इस तिला अवलेह के सेवन से एक दो माह में कमर दर्द , खून की कमी, शारीरिक कमज़ोरी, श्वेतप्रदर, स्तनों का ढीलापन व् बेडौल होना, योनिमार्ग का ढीलापन, योनि-भ्रंश आदि व्याधियां दूर होती हैं तथा शरीर चुस्त-दुरुस्त, सशक्त, फुर्तीला व् सुडौल हो जाता है . अंग-प्रत्यंग कसीले व् ठोस हो जाते हैं.

-----------------------------

नारी रोगों की घरेलु चिकित्सा (home treatment of women 's diseases )

महिलाएं प्रायः घर गृहस्थी के कामकाज में इतनी उलझी रहती हैं की वे अपने शरीर और स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं दे पाती. यदि किसी बीमारी से ग्रस्त होती हैं तो जब तक सहन होता है तब तक सहने की कोशिश करती हैं. परिणामस्वरूप वे बीमारी के जाल में जकड जाती हैं और धीरे-धीरे उनका शरीर कई बिमारियों का घर बन जाता है. इस आर्टिकल में कुछ नारी रोगों के बारे में उपयोगी विवरण प्रस्तुत किया जा रहा है.

ज़माना काफी आधुनिक और प्रगतिशील हो गया है जिसका प्रभाव काफी कुछ महिला वर्ग पर भी पड़ा है फिर भी कई महिलाएं अभी भी इतनी संकोचशील और लज्जालु प्रकृति की बनी हुई हैं की किसी रोग से पीड़ित होने पर एकाएक बताती नहीं. सहनशील स्वभाव होने के कारण वे बस चलते सहन करती रहती हैं और तभी बताती हैं जब पानी सिर से ऊपर होता दिखाई देता है. यह बड़ी हैरानी की बात है की परिवार के किसी सदस्य को कोई बीमारी हो जाए तो महिला चिंतित व् परेशां हो जाती है और सेवा सुश्रुषा करने में कोई कसार बाकी नहीं छोड़ती लेकिन खुद को कोई तकलीफ हो तो परवाह नहीं करती. जब बात बस से बाहर हो जाती है तब मजबूरन कोई कोशिश करने की कोशिश करती है.

कुछ रोग ऐसे होते हैं जो जो स्त्री और पुरुषों में समान रूप से पाए जाते हैं. ऐसे रोगों की चिकित्सा भी एक समान होती है और पाठ्य-अपथ्य का विधान भी समान होता है. ये रोग शरीर के उन्ही अंगों में होते हैं जो स्त्री-पुरुषों में समान रूप से पाए जाते हैं लेकिन स्त्री शरीर में कुछ अंग ऐसे भी होते हैं जो पुरुष शरीर में नहीं होते हैं और स्त्री शरीर में पाए जाने वाले इन विशिष्ट अंगों को 'नारी-अंग' कहते हैं इसलिए इन नारी-अंगों में होने वाले रोगों को 'नारी-रोग' कहा जाता है. स्त्री शरीर में गर्भाशय और स्तन, दो प्रमुख अंग अधिक होते हैं अतः स्तन और गर्भाशय से सम्बंधित हिस्टीरिया, प्रदर (श्वेत प्रदर व् रक्त प्रदर) , योनिवयापद , योनिकन्द, योनिशोथ, मूढ़ गर्भ, बन्ध्यत्व (बांझपन), सूतिका रोग , योनिभ्रंश, गर्भाशय भ्रंश यानी प्रोलेप्स ऑफ़ यूटेरस , सोमरोग, मासिक धर्म की अनियमितता, कष्टार्तव इत्यादि नारी-रोग होते हैं.

 

 

Low sex drive or low libido is a very common health problem among many women. More information and ayurvedic treatments and natural remedies on this topic are listed here --> Low Sex Drive (Libido) in Women

Please Feel Free to Ask any Queries or Share your Comments/Opinions Below :-

 
***

 

Biovatica.com

 

 

 

 

 

*Important Note/ Privacy Policy and Disclaimer : - *Authors of this website are neither licensed physicians nor scientists. *Statements on this websites have not been evaluated by the Food and Drug Administration or any other government agency of any country. *This website is for informational purpose only and is not meant to substitute for medical advice provided by your physician or other medical professional. *Informations or statements written in this website should not be used to diagnose or treat a health problem or disease, or for prescribing any medication. *If you suspect you have a medical problem, you should contact your own doctor or health care provider. *This website neither claim cure from any disease by any means NOR it sell any product directly . All products and Advertising Links are External. Any product Advertiesed in this website may not be intended to diagnose, treat, cure or prevent any disease. Though We make sure to put advertisements of only trusted companies, you are advised to verify claims before purchasing.

We Have certain Privacy Policy for our website visitors. For more details Kindly visit our Privacy Page by Clicking Here