ayurveda
Biovatica.Com

Welcome to Biovatica.Com

All About Ayurveda, Ayurveda Herbs and Indian Ayurveda Home Remedies

Search for Ailment, Condition, Disease or Natural Ayurvedic Indian Home Remedies :-

Ayurveda on Men's Health
Ayurveda on Youth & Teen
Ayurveda on youth and teen
Ayurveda on Women's Health
ayurveda women health
About US Contact Us Donate
Men's Health Women's Health Sexual Health
Anti-Aging Digestive Health Skin Care


Biovatica Home

Ayurveda

Tridosha

Vajikarana

Disease List

Acne

Adenoids

Addiction

Alopecia

Anemia

Anxiety

Allergic Rhinitis

Alzheimers

Arthritis

Asthma

Asthma Dama in Hindi

Blood Pressure

Breast Lump

Bronchial Asthma

Bronchitis

Cancer Ayurveda

Cataract

Conjunctivitis

Colitis

Constipation

Cough

Common cold (Coryza)

Cramps

Deafness

Diarrhoea

Diabetes mellitus

Diabetes Ayurveda

Depression

Dysmenorrhoea

Eczema

Enuresis (Bed Wetting)

Epilepsy

Epistaxis

Earache

Eructation and Flatulence (Gas Trouble)

Fatigue

Fever

Gallstones

Glands

Gout

Heart Disease and Cholesterol

Herpes

Hemorrhoids (Piles)

Headache

Heartburn

Heatstroke

Hernia

Hysteria

Hysteria versus Epilepsy

Hepatitis ayurveda in hindi

Hypertension

Impotence

Insomnia

Jaundice

Leucorrhoea

Lumbago

Lungs

Kshay Rog (TB)

Madhumeh

Menopause

Metrorrhagia

Migraine

Morning Sickness

Motion Sickness

Nausea

Obesity

Oedema

palpitation

Joint Pain

Parkinson's disease

Paralysis

Psoriasis

Rheumatoid Arthritis

Spondylitis (Ankylosing)

Sciatica

Sinusitis

Sore Throat

Sprain

Stiff Neck

Tennis Elbow

Tobacco Addiction

Gonorrhea

Syphilis

Schizophrenia

Stress

Syncope

Teeth

Thyroid

Thyroid Disorders

Tinnitus

Tonsillitis

Toothache

Trigeminal Neuralgia

Ulcers

Urinary Incontinence

Vertigo

Vertigo Acupressure

Vomiting

Writer's Cramp

Men's Health

Erectile Dysfunction(ED)

Premature Ejaculation (PE)

Nocturnal Emission (Wet Dreams)

Masturbation

Reproductive Health

Low Sperm Count

Brahmacharya

Low sex drive Libido) in male

Hair Loss (Male Baldness)

Women's Health

Pregnancy

Periods

Breast Care

Low Sex Drive (Libido) in Women

Hair Loss (Female Baldness)

Ayurvedic Herbs, Vati and Home Remedies List

1) Divya Rasayan Vati

2) Kali Mirch (Black Pepper)

3) Brahmi

4) Amla (Aanvla)

5) Sarpagandha

6) Kesar

7) Isabgol

8) kaunch

9) Ashwagandha

10) Ashoka Tree and Ashokarishta

11) Sada Suhagan Plant

12) Shatavari

13) Soybean Ayurveda

14) Nagkesar

15) Gandhak Rasayan

16) Laung

17) Eladi vati

18) Suvarna Malini Vasant

18) Kumar Kalyan Ras

20) Dashang Lep

21) Jamun

22) Bhringraj

23) Bhringrajasava

24) Maha Triphaladi Ghrit

25) Kanakasava

26) Kela

27) Ashwa Kanchuki Ras

28) Prameha Gaj Kesari Vati

29) Dhaniya

30) Kaalmegh

31) jaayfal

32) Ambar Kasturyadi Vati

33) Vidaryadi Churna

34) Vasavaleha

35) Makkhan

Miscellaneous

Sexual Health

Anti-Aging

Skin Care

Digestive Health

Acupressure

Ayurveda Resources

Archives

Ayurvedic Oils

Ayurveda and Mental Health

Ayurveda and Summer Season

Ayurveda and Winter Season

Ayurveda and Rainy Season

Ayurveda Recipes

Ayurveda Yoga

Ayurveda Paks

Ayurveda Home Remedies

Ayurvedic Solutions

Ayurveda Images

Ayurveda Child Care

Privacy Policy

Site Map

Contact Us

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


Hemorrhoids(Piles) Ayurveda ( पाइल्स बवासीर के आयुर्वेदिक उपचार हिंदी में )





बवासीर ऐसा रोग है जो एक बार हो जाए तो आसानी से ठीक नहींबवासीर ऐसा रोग है जो एक बार हो जाए तो आसानी से ठीक नहीं होता. यह दो प्रकार का होता है, बादी और खूनी. बादी बवासीर में सिर्फ मस्से फूल जाते हैं जिनसे भारी कष्ट होता है जबकि खूनी बवासीर में खून गिरता है जिससे रोगी मानसिक रूप से भी दुखी और व्याकुल रहता है. खानपान में सख्ती से परहेज़ करना इस रोग की चिकित्सा में ज्यादा महत्वपूर्ण और लाभकारी सिद्ध होता है क्योंकि ज्यादातर यह रोग खानपान में बदपरेजी करने तथा लंबे समय तक कब्ज़ बने रहने से होता है.
आहार-विहार में अनियमितता के कारण उदर रोगों में अपच, कब्ज़, अम्लपित्त, अतिसार, आम-प्रवाहिका और अर्श (बवासीर) जैसे अनेक रोगों से ग्रस्त होना आजकल आमतौर पर पाया जाता है. इन रोगों में से एक रोग अर्श यानी पाइल्स या बवासीर के विषय में biovatica .कॉम ने इस लेख में उपयोगी विवरण प्रस्तुत किया है.

गुदा के मुख में छोटे-छोटे अंकुर (मस्से ) होते हैं. इनमे से एक, दो या अनेक मस्से फूल कर बड़े हो जाएँ तो तो इस स्थिति को आयुर्वेद में 'अर्श' कहा जाता है. "अरिवत प्राणन श्रणाती इती अर्शह " के अनुसार ये अंकुर फूल कर जब बड़े हो जाते हैं प्राणों को शत्रु की तरह पीड़ा देते हैं. इसीलिए इस रोग को अर्श कहा जाता है. गुदा के मस्से पहले कठोर होना शुरू होते हैं जिससे गुदा में कोचन और चुभन सी होने लगती है. गुदा को हाथ से स्पर्श करने और जल से शौच क्रिया करने पर कष्ट का अनुभव होता है. यह अर्श रोग की प्रारम्भिक अवस्था होती है. ऐसी स्थिति होते ही व्यक्ति को सतर्क हो जाना चाहिए. ऐसा ना करने पर मस्से फूलते जाते हैं और एक-एक मस्से का आकार मटर के दाने या चने के बराबर हो जाता है. ऐसे स्थिति में मॉल विसर्जन करते समय तो भारी पीड़ा होती ही है बैठने तक में पीड़ा होती है लिहाज़ा बवासीर का रोगी सीधा बैठ नहीं पाता. यह बादी बवासीर होती है. बवासीर रोग में यदि खून भी गिरे तो इसे खूनी बवासीर (रक्तार्श) कहते हैं. यह बहुत भयानक रोग है क्योंकि इससे पीड़ा तो होती ही है साथ में शरीर का खून व्यर्थ नष्ट होता है. चरक संहिता के अनुसार, प्रकुपित हुई पाँचों वायु एवं पित्त व् कफ व्यक्ति पर आक्रमण कर इस अर्श अर्थात बवासीर रोग को उत्पन्न कर देते हैं.

Causes of piles in Hindi (बवासीर रोग के कारण हिंदी में ) -

बवासीर रोग का प्रमुख कारण है लंबे समय तक कठोर कब्ज़ बना रहना . दोनों वक़्त सुबह - शाम शौच ना जाने या जाने पर ठीक से पेट साफ़ ना होने और काफी देर तक शौचालय में बैठने के बाद मल निकलने , जोर लगाने पर मल निकलने या जुलाब लेने पर मल निकलने की स्थिति को कब्ज़ होना कहते हैं . कई लोगों की ये आदत होती है की सिर्फ सुबह के वक़्त शौच जाते हैं और शाम के वक़्त जाते ही नहीं . अब ज़रा इस बात पर गौर करें की एक व्यक्ति शाम को शौच नहीं जाता इसका परिणाम यह होता है की जो मल शाम को निकल जाता - वह शाम को शौच के लिए नशि जाने से , रात भर मलाशय में पड़ा रहेगा जिससे पेट में उष्णता बढ़ेगी , मल सड़ेगा तो गैस बनेगी और मल सूखेगा तो ऊपरी परत कठोर हो जायेगी और मल भी रात भर सूखकर कठोर हो जाएगा . इसलिए इस व्यक्ति जब सुबह शौचालय में बैठता है तो मल निकलने के लिए प्रतीक्षा करनी पड़ती है . ऐसी स्थिति में जो जोर लगाते हैं और आमतौर पर लगाते ही हैं ताकि मल बाहर निकल सके , वे बवासीर के रोगी हो जाते हैं क्योंकि एक तो , ज़ोर लगाने से गुदा के मस्सों पर बार - बार जोर पड़ता है व् उनमे तनाव आ जाता है . दूसरे , ज्यादा अवधि तक मलाशय में पड़ा रहने से मल सूख कर कठोर हो जाता है और गैस पैदा करता है . कठोर मल जब बलपूर्वक निकलता है तो गुदा की कोमल वलियों और मस्सों पर रगड़ मारता है उधर गैस यानी वायु कुपित होकर मस्सों पर तनाव व् दबाव डालती है इन सब कारणों का ही परिणाम होता है मस्सों का फूलना . अनुचित ढंग से गरिष्ठ , तले हुए , नमकीन , तेज मिर्च - मसालेदार , उष्ण और वातवर्धक ( बादी बढ़ाने वाले ) पदार्थों का अतिसेवन करने से और वक़्त - बेवक़्त भोजन करने से अपच और कब्ज़ होता ही है . जब लंबे समय तक ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है तो बवासीर रोग होता है .

बवासीर के आयुर्वेदिक उपचार - सबसे पहली चिकित्सा तो ये करना चाहिए की सुबह शाम शौच करके , पानी से गुदा धोने के बाद, स्वमूत्र से गुदा को धोएं . एक डिब्बे या शीशी में अपना मूत्र ले कर रख लें . शौच से निवृत होकर, गुदा प्रक्षालन से फारिग होकर इस मूत्र से गुदा को धोएं. इसके बाद गुदा को पानी से नहीं धोना है सिर्फ हाथ से धोना है. गुदा से लगा मूत्र थोड़ी ही देर में सूख जाता है. यह प्रयोग इतना कारगर और फायदेमंद है की, कितने हो रोगियों को, बवासीर की प्रारम्भिक अवस्था में ही यह प्रयोग करने से बवासीर से छुटकारा मिल गया.

दूसरा उपाय यह है की सुबह, शाम और सोते समय रुई के फाहे को " कासीसादि तेल " में डुबो कर गुड के मस्सों पर पूरा आराम न होने तक प्रतिदिन लगाने से मस्से ठीक हो जाते हैं. यदि खूनी बवासीर हो तो रात को कासीसादि तेल ना लगाकर 'दुर्वाधिगृत' का फाहा लगाना चाहिए या दिन में भी लगाना जरुरी हो तो लगा सकते हैं. अलग-अलग वक़्त में 'कासीसादि तेल' और 'दुर्वाधिगृत' दोनों का प्रयोग कर सकते हैं सिर्फ यह ख़याल रखें की 'दुर्वाधिगृत' का प्रयोग सिर्फ खूनी बवासीर में, खून गिरना रोकने के लिए ही किया जाता है.

तीसरा उपाय यह है की भोजन के बाद 'अभयारिष्ट' २-२ चम्मच सुबह शाम आधा कप पानी में डालकर पीना चाहिए. 'अर्शकुठार रास' की १-१ गोली इसी के साथ ले लें. यह दोनों दवाएं दोनों प्रकार की बवासीर को ठीक करने के लिए उत्तम हैं. पूर्ण लाभ ना होने तक सेवन करते रहे.

चौथा उपाय यह है की फिटकरी को भून कर पीस लें और शीशी में भर कर शौचालय में रख लें. शौच करने के लिए जिस पानी का प्रयोग करें उस पानी में आधा चम्मच यह फिटकरी डाल कर घोल लें. इस पानी से ही गुड धोना चाहिए.

पांचवा उपाय यह है की सोते समय हेदेंशा या पाईलेक्स ऑइंटमेंट या कोई वेसलीन गुड में जरूर लगा लिया करें. इससे गुड के मस्से नरम रहेंगे और सुबह मॉल निकलने में सुविधा रहेगी.

आयुर्वेद ने बवासीर के लिए कुछ परहेज बताये हैं जो इस प्रकार हैं --> तले हुए, लाल मिर्च व् मसालेदार , खटाईयुक्त, बादी करने वाले व् उष्ण प्रकृति के पदार्थों का सेवन कतई बंद रखें . अरहर की दाल, बैंगन, अरबी और बेसन की चीजें ना खाएं. छिलके वाली मूंग की दाल , गिलकी, तोरई,पालक, हरी सब्ज़ियां और कच्चे सलाद का सेवन जरूर करें.

बवासीर (पाइल्स ) के लिए आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खा ( Ayurveda home remedy for piles in hindi ) - नारियल के ऊपर की जटा लेकर माचिस की तीली से जला दें. जब जटाएं जल जाएँ तब इसकी राख को छान कर कांच के साफ़ जार में भर कर रख दें. ताज़ा जमा हुआ दही एक कटोरी भर लेकर इसमें एक चम्मच यह राख घोल दें. इस राख के अलावा दही में शक्कर या मिर्च मसाला कुछ भी न डालें. इस घोल को सुबह उठते ही बिना कुछ खायेपीये , पी जाएँ. इसके एक डेढ़ घंटे बाद तक कुछ खाएं पियें नहीं. ऐसा तीन दिन तक करें. खून गिरना बंद हो जाएगा और मस्से सूख जायेंगे. खुनी और बादी बवासीर जड़ से चली जाएगी.

 

========================

Regular readers or visitors of this website know very well that there are only two conditions for a healthy body. First condition is stomach should be clean and second condition is mind should be clean. If stomach is not clean and healthy then it causes several diseases. One of these diseases is piles (or haemorrhoids).

Piles is a very painful disease. If piles is not treated or controlled at an early stage then it keeps increasing and even makes sitting and getting up very difficult for the patient. In this disease sprouts of anus become enlarged and take the size of a pea or grape. In fact, these sprouts are abnormally swollen blood vessels on the walls or joint of anus. Based on its position it is called external or internal haemorrhoids (external or internal piles).

Causes of piles (haemorrhoids):- wrong eating habits, eating wrong foods, irregular or idle daily routine and fast foods are parts of today's modern lifestyle. Due to these things people suffer from disease like constipation. Why does constipation occur? Consumption of Heavy, lubricious, fried or spicy food is the major cause of constipation. Regular and heavy consumption of these foods causes digestion problems and result in continuous constipation.Constipation causes dryness of stool. Due to constipation stool becomes dry and hard. Patient then applies extra force or pressure for the hardened stool. Hardened stool causes more resistance with the walls of anus and causes damage to the blood vessels there. Due to this these blood vessels of anus gets swollen and piles disease strikes.

Though constipation is the main cause of haemorrhoids (piles) but there can be some other causes as well. These causes are genetic effects, lazy or inactive daily routine, long sitting jobs, eating wrong foods in odd times, consumption of tea and coffee in large amounts, intestine problems, drug abuse, angry and jealous nature, mental stress, worry and pregnancy etc.

Symptoms of piles: - piles or haemorrhoids is a disease which is found equally in both men and women. Many people suffer from this disease but it is not necessary that everyone should show the signs and symptoms. There are two types of piles:-

•  external piles (external haemorrhoids)

•  internal piles (internal haemorrhoids)

•  External piles (external haemorrhoids) – in this type of piles, sprouts are found outside the anus. Its patients suffer from pain inflammation and itching in the sprout's spots but there is no bleeding in external piles (haemorrhoids). Patient feels some wetness due to mucus.

•  Internal or bleeding piles (internal or bleeding haemorrhoids) – in this type of piles there is some bleeding with pain from the sprouts. It has four stages or grades based on the position of sprouts.

Grade 1 – in this, sprouts are present inside the anus and they cannot be felt from outside but sprout bleeds and patient suffer from pain bleeding.

Grade 2 – in this, sprouts comes out at the time of stool and goes back automatically after the stool.

Grade 3 – this stage is similar to grade 2 but in this sprouts needs to be inserted back with the help of fingers.

Grade 4- in this stage sprouts are always present outside the anus.

Due to bleeding, internal piles causes loss of blood in the body which result in weakness. At the time of passing the stool, pain and inflammation remains in internal piles.

Ayurveda Indian home remedies for the cures and treatments of Piles (haemorrhoids) are listed below:-

1)  First of all, patient should get rid of constipation and hyperacidity. For this, patient should drink more water and liquids in daily life. Avoid the foods which are heavy in digestion and are very spicy. Patient should eat lots of vegetables and fruits. Intake of green vegetables must be increased. “Whey” ( chhanchh ) is just like nectar for the piles patient. Patient should drink whey with jeera namak 2-3 times a day regularly to get rid of piles.

2)  Take 20 gram butter ( makkhan) and 20 gram kaale til. Mix them properly and it every morning with much chewing for few days. This Ayurvedic home remedy cures the piles (haemorrhoids) within few days.

3)

 

Acupressure treatment for hemorrhoids(piles)

Haemorrhoid is a small blood tumour at the anal orifice. It is also called piles. Haemorrhoids can be bleeding or non-bleeding. Non bleeding piles are called blind piles. Haemorrhoids are almost always painless & are associated with bleeding (in case of bleeding piles) during stool. Piles can be internal (within the anus) or external (tumour outside the anus).

Causes of haemorrhoids:

•  Defective nutrition

•  Lack of fibrous food

•  Hard stool

•  Habitual constipation

•  Sedentary habits (lack of exercise)

•  Spicy, seasoned food

•  Pregnancy

•  Chronic alcoholism

Dietary advice:-

•  Intake of water should be increased

•  Diet should contain fibrous food

•  Exercise

•  Relieving bowel on a daily basis.

Acupressure treatment:

SI 5

L 17

P 4, 8

K 8

Sp 1, 20

UB 18. 65

GB 39

Reflex points: diaphragm, adrenal, rectum, sigmoid colon(large intestine), back of the heel, kidney.

 

Please Feel Free to Ask any Queries or Share your Comments/Opinions Below :-

 
***

 

Biovatica.com

 

 

 

 

 

*Important Note/ Privacy Policy and Disclaimer : - *Authors of this website are neither licensed physicians nor scientists. *Statements on this websites have not been evaluated by the Food and Drug Administration or any other government agency of any country. *This website is for informational purpose only and is not meant to substitute for medical advice provided by your physician or other medical professional. *Informations or statements written in this website should not be used to diagnose or treat a health problem or disease, or for prescribing any medication. *If you suspect you have a medical problem, you should contact your own doctor or health care provider. *This website neither claim cure from any disease by any means NOR it sell any product directly . All products and Advertising Links are External. Any product Advertiesed in this website may not be intended to diagnose, treat, cure or prevent any disease. Though We make sure to put advertisements of only trusted companies, you are advised to verify claims before purchasing.

We Have certain Privacy Policy for our website visitors. For more details Kindly visit our Privacy Page by Clicking Here